कोविड 19 वैक्सीन के खिलाफ फैलाई जा रही अफवाहों से सावधान रहें

09:13 PM Jan 16, 2021 |

जब पूरी मानवता कोविड 19 महामारी के कारण अनिश्चितता की स्थिति में है और इसके परिणामस्वरूप दुनिया भर में जान माल की हानि हो रही है, ऐसे में कुछ मौकापरस्त और मानवता के दुश्मन दुष्प्रचार में लगे हैं। सोशल मीडिया का उपयोग कर पहले तो कोविड के वैक्सीन पर सवाल खड़ा किया गया और जब इससे मन नहीं भरा तो अब वैक्सीन में सूअर की चरबी होने की अफवाह फैलाने लगे हैं। दुनिया की कई वैक्सीन निर्माता कंपनियों ने कोविड टीका बनाने का दावा किया है। फाइजर, माडर्ना और एस्ट्राजेनेका जैसी वैक्सीन बनाने वाली बड़ी कंपनियों ने सूअर की चरबी वाली अफवाह पर सफाई भी दी है। कंपनियों के प्रबंधन की ओर से जारी जानकारी में बताया गया है कि उन्होंने अपनी वैक्सीन में जिलेटिन का इस्तेमाल नहीं किया है। मानव इतिहास में कोरोना वायरस दुनिया में सबसे खतरनाक आपदा और विनाशकारी बीमारी के रूप में सामने आया है। वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने सैंकड़ों रातों की नींद हराम कर इस खतरनाक बीमारी के प्रभाव को कम करने की क्षमता वाले नए टीके विकसित किए हैं। ऐसे में इस टीके का हमें स्वागत करना चाहिए और मानवता के रक्षक वैज्ञानिकों का धन्यवाद करना चाहिए लेकिन कुछ चरमपंथी तत्व वैज्ञानिकों के द्वारा अर्जित क्षमता पर ही सवाल खड़े कर रहे हैं। एक संप्रदाय विशेष को भड़काने के लिए यह प्रचारित करने पर लगे हैं कि विकसित किए गए कोरोना वैक्सीन में सूअर की चर्बी का उपयोग किया गया है। इस्लामी कायदे और कुरान-ए-पाक के जानकार मोहम्मद आलम साहब बताते हैं कि सूरे मायदा सहित खाने-पीने के मामले की चर्चा कुरान में चार स्थानों पर की गई है। उन्होंने बताया कि कुरान-ए-पाक के सूरे मायदा में खाने-पीने को लेकर कई हिदायतें दी गई हैं। सूरे मायदा में हिदायत करते हुए कहा गया है कि जो सड़ा हुआ हो, बहता हुआ खून हो या सूअर हो-जो अशुद्ध है, या अल्लाह के अलावा किसी अन्य के नाम पर दिया गया हो, उसे खाना इस्लाम के खिलाफ है लेकिन वहीं यह भी लिखा गया है कि यदि आपकी जान को खतरा है और इसके सेवन से आपकी जान बच जाए तो आप प्रतिबंधित वस्तुओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन उसका उतना ही उपयोग करें जिससे आपकी जान बच जाए। इसी रियायत के आधार पर दूसरे व्यक्ति का खून एक व्यक्ति में चढ़ाया जाता है। खून चढ़ाना इस्लामिक कायदे के अनुसार नाजायज है लेकिन कुरान की रियायत के आधार पर ही खून चढ़ाने को जायज ठहराया जाता है। कुछ बड़े मुस्लिम उलेमाओं का यह कहना है कि कोविड 19 के वैक्सीन में पोर्क जिलेटिन का इस्तेमाल किया गया है और चंूकि पोर्क इस्लाम में हराम है, इसलिए इस वैक्सीन का उपयोग मुसलमानों के लिए नाजायज है। सच पूछिए तो यह महज एक अफवाह के अलावा कुछ भी नहीं है। दुर्भाग्य से मुस्लिम समुदाय में यह अफवाह बड़ी तेजी से फैल रही है। फाइजर और बायोएनटेक और एस्ट्राजेनेका जैसी बायो-टेक कंपनियों ने कहा है कि उनके कोविड -19 वैक्सीन में किसी भी पशु उत्पाद का उपयोग नहीं किया गया है।  

सैयद मोहम्मद अशरफ किछौछवी, अध्यक्ष अखिल भारतीय उलेमा और मशाइख बोर्ड (मुंबई) और वर्ल्ड सूफी फोरम ने एक बयान में साफ स्पष्ट किया है कि इस तरह के संदेह इंडोनेशिया में उठाए गए हैं जहां चीन से दवा खरीदने पर सहमति बनी है। उन्होंने समुदाय से अपील की है कि वे अफवाहों से प्रभावित न हों क्योंकि डाक्टरों ने सुनिश्चित किया है कि टीकों में पोर्क के किसी भी भाग का उपयोग नहीं किया गया है। इन प्रतिष्ठित मुस्लिम उलेमाओं ने कहा है कि कोरोना वैक्सीन मानव जीवन की सुरक्षा के लिए बनाई गई है और टीके के खिलाफ अफवाहें फैलाने से मुस्लिम समुदाय के बीच गलतफहमी पैदा होगी और उन लोगों के जीवन के लिए खतरा पैदा होगा जिन्हें टीका नहीं मिलेगा। सदी की खूँखार महामारी को हराने की दिशा में अपने प्रयास में टीकाकरण को अपनाने के लिए हम सभी को आगे आना चाहिए। इस मामले में मुस्लिम समुदाय को अफवाहों से बचना चाहिए। अगर सूअर की वसा को वैक्सीन के किसी भी रूप में चिकित्सीय रूप से पाया जाता है तो इस्लाम की रोशनी में इसकी जांच होनी चाहिए। अगर किसी मुसलमान को जान की रक्षा के लिए, भूख या दुश्मन द्वारा विवश होने के कारण सूअर के मांस जैसे निषिद्ध जानवरों को खाने के लिए बाध्य किया जाता है तो वह धर्म विरूद्ध नहीं माना जाएगा। यही नहीं, इस्लाम यह भी कहता है कि एक व्यक्ति के धर्म भ्रष्ट होने से यदि लाखों मुस्लिम जीवन की रक्षा होती है तो उसमें कोई हर्ज नहीं है। यहां वैसी ही परिस्थिति है। मुसलमानों को इस दिशा में सोचना चाहिए। कोविड वैक्सीन में सूअर की चर्बी से संबंधित मुद्दों पर इस्लामी कानून के ज्ञाता मुफ्ती आजम ने कहा है कि कोविड 19 के टीके में कोई गैर इस्लामी तत्व मौजूद नहीं है जो इस्लाम की नैतिकता के लिए घातक हो। मुस्लिम समुदाय को यह महसूस करना चाहिए कि कोविद 19 एक वैश्विक संकामक बीमारी है। इसकी रोकथाम में कोई सुस्ती पूरी मानवता के लिए घातक साबित हो सकती है। इस्लाम सबसे उदारवादी और लोकतांत्रिक धर्म है जिसे तर्कसंगत रूप से समझना चाहिए न कि आँख बंद करके। प्रसिद्ध मुफ्ती यूसुफ शब्बीर द्वारा फतवा पहले ही जारी किया जा चुका है और रियाद, सऊदी अरब के मुफ्ती मोहम्मद ताहिर और एनएचएस सलाहकार मौलाना कलिंगल द्वारा अनुमोदित किया गया है कि यह टीका मुसलमानों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला हलाल और सुरक्षित है। किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले मुसलमानों को यह महसूस करना चाहिए कि पश्चिमी मीडिया द्वारा एक प्रचलित अभियान पहले से ही इस्लाम को प्रतिगामी घोषित करने और आधुनिक विज्ञान का विरोधी साबित करने की पूरी कोशिश में है। इस परिदृृश्य में मुसलमानों की यह जिम्मेदारी है कि वो दुनिया को दिखाएं कि इस्लाम और आधुनिकता अविभाज्य हैं और मुसलमान आधुनिक और विज्ञान के ध्वजवाहक हैं, न कि उसके विरोधी।  

-गौतम चौधरी