नई पॉलिसी पर 'बवाल', WhatsApp ने ट्वीट कर 7 प्वाइंट्स में दूर की लोगों की शंकाएं

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): इंस्टैंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप को अपनी नई पॉलिसी को लेकर दुनियाभर में काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच कंपनी ने नई पॉलिसी को लेकर लोगों के मन में जो शंकाएं उसे दूर करने के लिए बयान जारी किया है। व्हाट्सएप का कहना है कि यूजर्स के प्राइवेट मैसेज और कॉल्स पूरी तरह से सेफ रहेंगे, साथ ही एंड टू एंड एन्क्रिप्शन भी जारी रहेगा। कंपनी ने ट्वीट करके 7 प्वॉइंट्स में अपनी बात रखी है। व्हाट्सएप ने ट्वीट के कैप्शन में लिखा, 'हम यह 100 फीसदी साफ कर दें कि एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के जरिए आपके प्राइवेट मैसेजेस आगे भी सेफ रहेंगे।' बता दें कि व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी 8 फरवरी से लागू होगी, जिसे स्विकार न करने वाले यूजर्स आगे व्हाट्सएप का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे।

 
आइए जानते हैं व्हाट्सएप ने अपने बयान में क्या कहा-

1. व्हाट्सएप या फेसबुक आपके प्राइवेट मैसेजेस नहीं देख सकता और ना ही आपकी कॉल्स सुन सकता है। 
2. व्हाट्सएप इस बात का कोई रिकॉर्ड नहीं रखता कि कौन यूजर किसे कॉल या मैसेज कर रहा है। 
3. व्हाट्सएप या फेसबुक आपके द्वारा शेयर की गई लोकेशन को नहीं देख सकता। 
4. व्हाट्सएप आपके कॉन्टैक्ट्स को फेसबुक के साथ शेयर नहीं करता। 
5. व्हाट्सएप ग्रुप प्राइवेट बने रहेंगे। 
6. आप यह सेट कर सकते हैं कि आपके मैसेजेस गायब हो जाएं। 
7. आप अपने डेटा को डाउनलोड कर सकते हैं। 
 
बता दें कि व्हाट्सएप ने हाल ही में अपने यूजर्स को नई प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में अपडेट देना शुरू किया था। इसमें बताया गया था कि व्हाट्सएप कैसे यूजर्स के डेटा की प्रोसेसिंग करता है और उन्हें फेसबुक के साथ किस तरह से साझा करता है। अपडेट में यह भी कहा गया कि व्हाट्सऐप का उपयोग जारी रखने के लिए यूजर्स को 8 फरवरी, 2021 तक नई नियम व पॉलिसी से सहमत होना होगा। इसके बाद से ही दुनियाभर में व्हाट्सऐप के फेसबुक के साथ यूजर्स डेटा शेयर करने को लेकर बहस शुरू हो गई।