+

यूपी में विधानसभा चुनाव की सुगबुगाहट शुरू 

Politics
यूपी में विधानसभा चुनाव की सुगबुगाहट शुरू 

यूपी के विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्ष लामबंद हो गया है।सत्तारूढ़ भाजपा की नाकामियों को उजागर करने के लिए कांग्रेस सहित सपा ने कमर कस ली है। प्रियंका वाड्रा मेरठ में जनसभा करने की पूर्ण तैयारी कर चुकी हैं। 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए विपक्ष की सांठगांठ की कवायद शुरू हो गई है। जनता का भाजपा से ध्यान हटाकर विपक्ष की तरफ आकर्षित करने के लिए पार्टियां नाकामियों का पिटारा खोलने की रणनीति बना रही है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा 29 सितंबर को मेरठ में जनसभा संबोधित करेंगी। प्रियंका वाड्रा मेरठ, प्रयागराज और बनारस में बड़ी जनसभाओं में हिस्सा लेकर लोगो को योगी की साढ़े चार की नाकामियों को गिनाएंगी। कोरोना में मरीज भर्ती नही होने, सिर पर सिलेंडर ढोने का, सरकार की नाकामियों का पैदल घरों को जाते हुए बीच रास्ते मे दम तोडऩे की उपलब्धि सरकार के नाम दर्ज है। उप्र के सह प्रभारी धीरज गुर्जर ने मेरठ में होने वाली प्रियंका वाड्रा की जनसभा के पूर्व अंश पेश करते हुए हर तरफ से भाजपा नाकाम साबित होने का आरोप लगाया। यूपी में कांग्रेस अपने दम पर 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। जनसभा में एक लाख कांग्रेस कार्यकर्ता जुटने की संभावना है। यूपी चुनाव को लेकर विपक्ष एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप से अपनी भड़ास निकाल रहा है। मेरठ में सपा ने प्रधानमंत्री आवास योजनाओ में अनियमितता बरते जाने का भाजपा पर आरोप लगाया है। परियोजना अधिकारी का घेराव किया। सपा ने आरोप लगाया कि घर देने के नाम पर उनसे मोटी रकम वसूली जा रही है। भाजपा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा कर राजनीतिक रोटियां सेंकी जा रही है। जो पार्टी भाजपा पर आरोप लगा रही हैउनको आत्ममंथन करना चाहिए कि हमारी सरकार ने कैसा शासन दिया है। चारों तरफ यूपी में अराजकता व्याप्त थी। गुंडागर्दी चरम पर थी। महिलाओं का अपहरण किया जाता था। उनके साथ अमानुषिक अत्याचार होता था। आज यूपी में चारों तरफ शांति का सामाज्य स्थापित है। प्रिंयका वाड्रा कोरोना वॉरियर्स के घर जाकर गुजर गए परिजनों को सांत्वना देगी।इस तरह के आयोजन कर भाजपा की नाकामयाबी गिनाने सभा का आयोजन किया जा रहा है।

-कांतिलाल मांडोत सूरत

शेयर करें
facebook twitter