जहरीली शराब से हुई मौतों की जांच माननीय हाईकोर्ट के जज से करवाई जाएः अशोक सरीन हिहक्की

पंजाब के राज्यपाल को लिखा पत्र और भेजी महिला द्वारा आरोप लगाती हुई वीडियो क्लिप
वीडियो क्लिप में महिला ने आरोप लगाया कि चार कांग्रेसी विधायकों की है जहरीली शराब में मिलीभगत

जालंधर (सौरभ खन्ना)- भाजपा युवा मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष एडवोकेट अशोक सरीन हिक्की ने पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनोर को पत्र लिख कर मांग की है कि जहरीली शराब की वजह से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई हैं, इसलिए इसकी जांच पंजाब पुलिस की बजाए माननीय हाईकोर्ट के जज से करवाई जाए। हिक्की ने राज्यपाल को भेजे पत्र के साथ चारों कांग्रेसी विधायकों पर आरोप लगा रही महिला की वीडियो क्लिप और केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के ट्विट का स्क्रीन शॉट साथ भेजा है। हिक्की ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने गत दिनों पहले एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया है, जिसमें एक महिला कांग्रेस के चार विधायकों राणा गुरजीत सिंह (विधायक कपूरथला), रमनजीत सिंह सिक्की (विधायक खडूर साहिब), हरमिंदर सिंह गिल (विधायक पट्टी) व धर्मवीर अग्निहोत्री (विधायक तरनतारन) के नाम लेकर जहरीली शराब बेचने में उनकी मिलीभगत के आरोप लगा रही हैं, इसलिए इसकी मामले की जांच जरुरी है। हिक्की ने कहा कि इसकी जांच पंजाब पुलिस की बजाए माननीय हाईकोर्ट के जज साहिब से निर्धारित समय में करवाई जाए, ताकि आरोपियों खिलाफ सख्य कार्रवाई करके पीड़ितों को इंसाफ मिल सके। हिक्की ने आरोप लगाया है कि सीएम कैप्टन अमरेन्द्र सिंह अपने विधायकों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इसका सबूत है कि लॉकडाउन के दौरान भी अवैध शराब का घोटाला उजागर हुआ था, जिस पर भी सीएम ने कोई ठोस कार्रवाही नहीं की थी। अमृतसर में दहशरे के दिन हुये रेल हादसे की तरह ही अब सीएम जहरीली शराब के हादसे की सच्चाई को भी दबाना चाहते हैं इसलिए राज्य के लोगों को इंसाफ दिलाया जाए।