भारत के दबाव के आगे झुका एंटीगुआ, जल्द रद्द होगी मेहुल चोकसी की नागरिकता

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): पीएनबी घोटाले के आरोपी और भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी पर शिकंजा कस चुका है और उसे बहुत जल्द भारत लाया जा रहा है। भारत सरकार की कोशिशों और दवाब के चलते एंटीगुआ मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने जा रही है। इस संबंध में एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि वह जल्द ही मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने वाले हैं। इसी के साथ ही मेहुल चोकसी को भारत लाने का रास्ता भी साफ हो जाएगा। ब्राउन के मुताबिक, भारत की ओर से लगातार इसको लेकर दबाव बनाया जा रहा था। एंटीगुआ के पीएम ने कहा कि हम किसी भी ऐसे व्यक्ति को अपने देश में नहीं रखेंगे, जिसपर किसी तरह के आरोप लगे हों। 

गौर हो कि मेहुल चौकसी के प्रत्यर्पण को लगातार कोशिश हो रही है। चोकसी ने जांच के लिए भारत आने से इनकार करते हुए कहा था कि वह स्वास्थ्य कारणों से भारत यात्रा नहीं कर सकता। जिसके बाद जांच एजेंसियों ने चोकसी के बीमार होने के दावे पर एयर ऐम्बुलेंस के जरिए वापस लाने का प्रस्ताव भी दिया था। 

बता दें कि पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) को लगभग 14 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाकर चोकसी विदेश फरार हो गया था और वह पिछले साल से ही एंटीगुआ में है। मेहुल चोकसी को कई बार सरकार, एजेंसियों और अदालत की तरफ से समन भेजा गया था, लेकिन उसने हर बार आने से मना किया। मेहुल चोकसी का तर्क था कि अगर वह हिंदुस्तान आएगा तो उसकी लिंचिंग कर दी जाएगी।