+

नवजोत सिंह सिद्धू को एक और झटका, सलाहकार डॉ. प्यारे लाल गर्ग ने दिया इस्तीफा 

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को एक और बड़ा झटका लगा है। सिद्धू के सलाहकार रहे बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के पूर्व रजिस्ट्रार डा. प्या
नवजोत सिंह सिद्धू को एक और झटका, सलाहकार डॉ. प्यारे लाल गर्ग ने दिया इस्तीफा 

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को एक और बड़ा झटका लगा है। सिद्धू के सलाहकार रहे बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के पूर्व रजिस्ट्रार डा. प्यारे लाल गर्ग ने भी सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया है। इससे पहले विवादित टिप्पणी के बाद मालविंदर सिंह माली नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार का पद छोड़ चुके हैं। गर्ग ने कहा कि ऐसे लोग सिद्धू के बहाने उनकी भी आवाज को दबाने में लगे हुए हैं, इसलिए उन्होंने जो सलाहकार बनने की सहमति दी थी वह वापस लेते हैं।

Navjot Singh Sidhu

डा. प्यारे लाल गर्ग जाने माने सर्जन हैं। वह एजुकेशन एक्टिविस्ट भी हैं। उन्होंने अपने फैसले के बारे में नवजोत सिद्धू को अवगत करवा दिया है। गर्ग के अपने करीबी लोगों से कहा कि उन्होंने पत्र में कहा कि सिद्धू कांग्रेस में नए विचार लाने वाले व्यक्ति हैं, पर उनके खिलाफ गलत खबरों को फैलाकर उन्हें देश से बाहर निकालने की साजिशें रची जा रही हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि सिद्धू अपनी गंभीर योजनाओं पर अमल करने में कामयाब होंगे। डा. गर्ग जो पंजाब के हितों, मजबूत संघवाद और समानता के लिए लंबे समय से आवाज उठाते रहे हैं, ने कहा कि वह इन मुददों पर बोलना बंद नहीं करेंगे।

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू को माली के बाद डॉ. गर्ग ने दिया झटका, पद से  इस्तीफ़ा देने की बताई ये वजह | Dr. Garg gave shock to Punjab Congress  President Sidhu, the

बता दें कि इससे पहले मालविंदर सिंह माली ने 27 अगस्त को सलाहकार के पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके समर्थकों को अली बाबा चालीस चोर की संज्ञा दे दी। इससे पहले माली ने कश्मीर मुद्दे पर विवादास्पद टिप्पणी करके पूरी कांग्रेस पार्टी को राष्ट्रीय स्तर पर विरोधियों के निशाने पर ला दिया। उसके बाद उन्होंने इंदिरा गांधी का विवादास्पद कार्टून अपने फेसबुक पेज के कवर पर लगाया था जिसे भारी विरोध के बावजूद अब तक नहीं हटाया है। अमरिंदर सिंह लगातार माली को पद से हटाने के लिए आलाकमान से शिकायत कर रहे थे। 
 

शेयर करें
facebook twitter