अमृतसर हादसा : 61 लोगों के खून से लथपथ ट्रेन जानिए कहां है इस वक्त

अमृतसर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अमृतसर के पास रेलवे ट्रैक पर 61 लोगों की जिंदगी खत्म करने देने वाली ट्रेन इस समय कहां है, इसके बारे में जानने की तमन्ना आपको भी होगी। तो आपको बता दें कि इस ट्रेन को अटारी पहुंची दिया गया है। लोगों के गुस्से को देखते हुए उनकी पहुंच से दूर ट्रेन को अटारी के रेलवे यार्ड में खड़ा कर दिया गया है। साथ ही सुरक्षा के लिए रेल सुरक्षा बल को वहां खड़ा कर दिया गया है। खूनी ट्रेन डीएमयू के इंजन नम्बर 11091 को शायद ही कोई भुला पाए। घटना के दूसरे दिन शनिवार को ये ट्रेन अटारी पहुंचा दी गई।

यार्ड के जिस ट्रैक पर ट्रेन को खड़ा किया गया है ये कभी भारत और पाकिस्तान को जोडऩे का काम करता था। लेकिन 71 साल बाद एक बार फिर से ये ट्रैक खून से लाल हो गया है। इंजन में जगह-जगह फंसे इंसानी अंगों से ट्रैक पर रिसता खून पुरानी यादों को ताजा कर रहा है। अटारी रेलवे स्टेशन पर कस्टम विभाग की ओर से तैनात एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि जब उनकी बात अटारी में तैनात एक मित्र से फोन पर हुई तो उसने बताया कि जिस ट्रेन से अमृतसर में हादसा हुआ है वो अटारी पहुंचा दी गई है। 

ट्रेन भारत-पाकिस्तान को जोडऩे वाले बंद पड़े ट्रैक पर खड़ी की गई है। हालांकि खस्ताहाल होने के चलते ये ट्रैक अब बंद किया जा चुका है। काफी समय से इस पर कोई ट्रेन नहीं आई है लेकिन शनिवार दोपहर से ही कुछ गैंगमैन ट्रैक की सफाई कर रहे थे और बाद में उस ट्रेन को यहां लाकर खड़ी कर दी गयी। ट्रेन के पास रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) के कुछ जवान भी तैनात कर दिए गए हैं। जांच की दृष्टि से ट्रेन की अभी सफाई नहीं की गई है। ये ही वजह है कि ट्रेन के इंजन और शुरुआत के तीन-चार डिब्बों में अभी भी इंसानी अंगों के कुछ हिस्से फंसे हुए हैं। 

आपको बता दें कि इस खूनी ट्रेन को उसी ट्रैक पर खड़ा किया गया है जिस पर 1947 में भारत-पाकिस्तान बंटवारे के दौरान ट्रेन आ-जा रही थी। इस ट्रैक की पटरी उस वक्त भी खून से लाल हुई थी जब दोनों ओर ट्रेनों को बीच में रोककर लोगों का कत्ल किया गया था। तब भी बोगियों से रिसता खून इन्हीं पटरियों को लाल कर रहा था। 
 

Related Stories: