अमित शाह कल लोकसभा में पेश करेंगे नागरिकता संशोधन बिल, मिल सकता है शिवसेना का समर्थन 

08:48 PM Dec 08, 2019 |

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को लोकसभा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पेश करेंगे। इस संशोधन के जरिए 31 दिसंबर 2014 तक जो हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और पारसी बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से भारत में आ चुके हैं, उन्हें नागरिकता प्रदान करने की राह खुल जाएगी। राज्य के छात्र संगठन, सामाजिक संगठन और विपक्षी पार्टियां इस विधेयक के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं, उनका कहना है इस विधेयक से बांग्लादेश से आने वाले धार्मिक अल्पसंख्यकों की घुसपैठ बढ़ जाएगी जिससे अन्य समुदायों के हितों को नुकसान होगा।

लोकसभा में सोमवार को होने वाले कार्यों की सूची के मुताबिक गृह मंत्री दोपहर में विधेयक पेश करेंगे जिसमें छह दशक पुराने नागरिकता कानून में संशोधन की बात है और इसके बाद इस पर चर्चा होगी और इसे पारित कराया जाएगा। उधर, इस बिल पर कांग्रेस की क्या लाइन रहेगी, इसको लेकर कांग्रेस संसदीय रणनीतिक ग्रुप की बैठक नई दिल्ली में 10 जनपथ पर जारी है। सूत्रों के मुताबिक, शिवसेना भी बिल का समर्थन कर सकती है। 

इस बिल को पेश करने से पहले रविवार को भारतीय जनता पार्टी ने अपनी पार्टी के सभी सांसदों के लिए सोमवार से बुधवार तक का थ्री लाइन व्हिप जारी किया है। पार्टी की ओर से जारी किए गए एक पत्र में कहा गया है कि सभी भाजपा के सदस्यों को सूचित किया जाता है कि सोमवार 9 दिसंबर से लेकर 11 दिसंबर तक लोकसभा में बेहद ही महत्वपूर्ण चर्चा होने जा रही है। ऐसे में लोकसभा में बीजेपी के सभी सदस्यों को सरकार का समर्थन करने के लिए सदन में मौजूद होना आवश्यक है।