हरियाणा में कोरोना प्रतिरोधक टीकाकरण के लिये सभी आवश्यक प्रबंध: खट्टर

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य की जनता को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए आज कहा कि सरकार ने प्रदेश में 77 स्थलों पर शुरू होने वाले कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए हैं।

श्री खट्टर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज देशभर में शुरू किये गये कोराेना प्रतिरोधक टीकाकरण अभियान के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गुरूग्राम के मेदांता-द मेडिसिटी तथा राज्य के अन्य सरकारी और निजी स्वास्थ्य संस्थानों के टीकाकरण लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ बातचीत में कहा कि राज्य में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा तैयार कोविशील्ड और भारत बायोटेक द्वारा तैयार किए गए कोवाक्सिन टीकों को आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत किया गया है। उन्होंने कहा कि गत 13 जनवरी को राज्य को कोविशील्ड वैक्सीन की 2.4 लाख से अधिक खुराक और कोवाक्सिन की 20,000 खुराक की पहली आपूर्ति मिली है।

उन्हाेंने प्रधानमंत्री द्वारा शुरू किए गए इस टीकाकरण कार्यक्रम में राज्य के लोगों के शामिल होने पर बधाई देते हुए कहा कि इस वैश्विक महामारी पर काबू पाने में एक प्रभावी कदम साबित होगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों को देशभर में 3000 स्थलों पर टीका लगाया गया। उन्होंने कहा कि नीति आयोग के सदस्य डॉ. पॉल के अनुसार ये दोनों टीके सुरक्षित हैं और सभी को इसे लगवाना चाहिए। टीकाकरण को क्रमिक रूप से स्वास्थय कार्यकर्ताओं से शुरू किया गया है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को समूह-एक में शामिल किया गया है उनमें डॉक्टर, नर्स, एएनएम, फार्मासिस्ट, लैब तकनीशियन, हेल्पर, स्वीपर, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता शामिल हैं। इसी प्रकार समूह-दो में नगरपालिका और स्वच्छता कर्मी, राज्य और केंद्रीय पुलिस बल, नागरिक सुरक्षा, जेल कर्मचारी और सशस्त्र बल जैसे सशस्त्र कर्मी शामिल हैं। अब राजस्व कर्मचारियों को इसमें जोड़ा गया है। पचास साल से ऊपर की आबादी और सह-रुग्णताओं (को-मोरबीटी) के साथ 50 साल से कम की आबादी को समूह-तीन में शामिल किया गया है।