एग्जिट पोल ने तेज की विपक्षी दलों के दिलों की धड़कनें, मायावती-अखिलेश में 1 घंटे तक वार्ता  

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)- एग्जिट पोल के दावों से राजग का खेमा जहां उत्साहित है वहीं संप्रग के घटक दलों की चिंता बढ़ गई है। इसी चिंता के बीच नई दिल्ली में सियासी दलों की गुफ्तगू व बैठकों का दाैर शुरू हो गया है। हालांकि   
विपक्षी दलों को आस है कि 23 मई को आने वाला चुनाव परिणाम अलग रहेगा।  विपक्षी नेताओं की कोशिश है कि अगर करीबी स्थिति बनती है तो उसमें यूपीए समेत तीसरे मोर्चे की संभावना पर भी विचार किया जाए।

आज सुबह उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव चुनाव में अपनी सहयोगी बीएसपी प्रमुख मायावती से मिलने पहुंचे। दोनों नेताओं ने करीब 1 घंटे तक चर्चा की। बता दें कि एग्जिट पोल्स में उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी का महागठबंधन बीजेपी को बहुत बड़ा नुकसाना पहुंचाता नहीं दिख रहा है। खबरों के मुताबिक नायडू आज पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से मिलने वाले हैं। एक्जिट पोल के नतीजों में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सत्ता में आने के अनुमान के बावजूद आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सोमवार को भरोसा जताया कि उनकी तेलुगू देशम पार्टी(तेदेपा) राज्य में सत्ता में बरकरार रहेगी। उनका मानना है कि तेदेपा 175 सदस्यीय विधानसभा में 110 सीटें जीतेगी। इसी प्रकार तेदेपा प्रमुख को राज्य की 25 लोकसभा सीटों में से 18-20 सीटों पर जीत दर्ज करने का भरोसा है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग असमंजस फैलाने के लिए माइंड गेम्स खेल रहे हैं। अधिकतर एक्जिट पोल्स में रविवार को अनुमान लगाया गया है कि आंध्रप्रदेश में 110-130 सीट के साथ वाईएसआरसीपी सत्ता में आएगी।