टेस्ला के निवेश ने बाद Bitcoin की उड़ान जारी, 38 लाख रुपये का हुआ एक1 सिक्का

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): एलन मस्क की कंपनी टेस्ला ने जबसे क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन में निवेश किया है तब से इसकी उड़ान रुकने का नाम नहीं ले रही। बिटकॉइन वायदा से पता चलता है कि व्यापारियों को क्रिप्टो रैली अभी थमने वाली नहीं है। आज यानी गुरुवार को बिटक्वाइन की कीमत 51737 डॉलर यानी करीब 38 लाख रुपये पर थी। बताया जा रहा है कि बिटक्वाइन की कीमत बुधवार को नए रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गई है। इसका भाव 52000 डॉलर के पार चला गया। एक दिन पहले ही बिटकॉइन पहली बार 50000 डॉलर के पार गया था। बुधवार को इसने 52,577.50 डॉलर के स्तर को छू लिया, हालांकि बाद में यह 6.3 फीसदी की तेजी के साथ 52233 डॉलर पर बंद हुआ।

Image result for After Tesla's investment Bitcoin flight continues a 1 coin worth 38 lakh rupees

 

आप Bitcoin को क्रिप्टो एक्सचेंज से या सीधे किसी व्यक्ति से ऑनलाइन (पियर-टू-पियर) खरीद सकते हैं। दूसरे वाला माध्यम खासा जोखिम भरा है और इसे धोखेबाज भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि इसके एक्सचेंज भी किसी तरह के नियमन से नियंत्रित नहीं होते लेकिन भारत में इन्हें दीवानी और आपराधिक कानूनों के दायरे में रखा गया है, जैसे कांट्रैक्ट एक्ट, 1872 तथा भारतीय दंड संहिता, 1860। इनमें निवेश करने से पहले जांच लें कि एक्सचेंज का पंजीकृत पता कहां है और वह भारतीय कानून के अधीन निगमित है या नहीं। कुछ एक्सचेंज केवाईसी और एंटी मनीलॉड्रिंग प्रक्रियाओं का भी पालन करवाते हैं।

Image result for After Tesla's investment Bitcoin flight continues a 1 coin worth 38 lakh rupees

 

करीब 350 अरब डॉलर के बाजार पूंजीकरण के साथ बिटक्वाइन दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बन चुकी है। इसे 2009 में उस समय लांच किया गया था जब दुनिया में आर्थिक संकट आ चुका था। गणितीय गणनाओं के हल के आधार पर कंप्यूटरों ने बिटक्वाइन के अतिरिक्त यूनिट्स को तैयार किया। यह गणना हर बार यूनिट के जोड़े जाने के बाद और भी जटिल होती जाती है। इस आभासी मुद्रा की सबसे रोचक बात यह है कि इसका हिसाब-किताब हजारों कंप्यूटरों में एक साथ सार्वजनिक लेजर में रखा जाता है। यह ठीक उस प्रक्रिया के उलट है जिसमें पारम्परिक मुद्राओं का हिसाब बैंकों के सर्वर में रखा जाता है।