पुलवामा जाने पर अड़े 'अब्दुल्ला' को किया नजरबंद, Tweet कर बोले- 'यह आपका लोकतंत्र है'

श्रीनगर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : 14 फरवरी, 2019 यानी वैलेंटाइन-डे पर जब लोग प्यार बांटने में लगे थे, जम्मू-कश्मीर नेशनल हाईवे पर पुलवामा में CRPF की बसों पर किए गए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। यहां से 2500 जवानों को लेकर 78 बसें निकल रही थीं। घटना करीब 3.30 बजे हुई थी। सारा देश इन शहीदों को याद कर रहा है। इस बीच पुलवामा जाने पर अड़े जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने दावा किया है कि उन्हें और उनके परिवार को एक बार फिर नजरबंद कर दिया गया है। उन्होंने रविवार को ट्वीट कर केंद्र सरकार पर गुस्सा जाहिर किया। उन्होंने कुछ तस्वीरें भी शेयर कीं, जिसमें उनके घर के बाहर पुलिस की कुछ गाड़ियां खड़ी हैं। इस दौरान उन्होंने लिखा कि 'यह आपका लोकतंत्र है'।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर को श्रीनगर स्थित उनके घर में नजरबंद किया गया है। इससे पहले पूर्व सीएम और पीडीपी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती को भी कल पुलवामा जाने से रोक दिया गया था। उमर ने ट्वीट करके कहा कि अगस्त 2019 के बाद का यह नया जम्मू-कश्मीर है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद उमर को नजरबंद किया गया था। वे 24 मार्च को ही रिहा होने के बाद घर पहुंचे थे। उन्हें 5 अगस्त को नजरबंद किया गया था।