हादसा! काला हुआ मॉरीशस के समुद्र का पानी, बड़े खतरे का संकेत- सरकार ने घोषित की Emergency

पोर्ट लुइस (उत्तम हिन्दू न्यूज): अपने साफ पानी के लिए मशहूर मॉरीशस की बीच अब काली नजर आ रहे है। बीच पर मौजूद समुद्र का पानी काला हो गया है और हजारों लोग इसकी सफाई करने में जुटे हुए हैं। मॉरीशस के खूबसूरत समुद्र तटों की ये हालत जापान के एक तेल टैंकर जहाज की वजह से हुई है जो कि 25 जुलाई से मॉरीशस दक्षिणपूर्वी तट पर फंसा हुआ है और इसमें से कच्चे तेल का रिसाव हो रहा है। एक अनुमान के मुताबिक टैंकर से अभी तक 1000 टन तेल बह चुका है जिसकी वजह से समुद्र का पानी काला हो गया है और मॉरीशस ने 'पर्यावरणीय आपातकाल' की घोषणा कर दी है।

NBT

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एमवी वाकाशिवो नामक यह तेल टैंकर 25 जुलाई से फंसा हुआ है और इससे हो रहे तेल के रिसाव ने मॉरीशस की खूबसूरती को तबाह कर दिया है। मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ ने पर्यावरणीय आपातकाल की स्थिति घोषणा कर दी है और कहा है कि इससे देश के लिए खतरा पैदा हो गया है। जगन्नाथ ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद मांगी है। 

NBT

पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करने वाले ग्रीनपीस का कहना है कि इससे मॉरीशस में अब तक सबसे भयावह पर्यावरणीय संकट पैदा हो जाएगा। इससे समुद्री जीव-जंतुओं के साथ ही पर्यावरण के लिए बड़ा खतरा पैदा हो गया है। 

शुक्रवार को जारी सैटेलाइट तस्वीर में नीले रंग के समुद्री पानी पर गहरे रंग का तेल फैलता नजर आ रहा है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने कहा कि उनका देश मॉरीशस की मदद के लिए विशेष दल और उपकरण भेज रहा है। मॉरीशस के करीब फ्रांस का रीयूनियिन द्वीप है। जहां से शनिवार को प्रदूषण नियंत्रण करने वाले उपकरणों के साथ सैन्य विमान मौके पर भेजा गया है।

NBT

जापानी तेल कंपनी एमवी वाकाशिवो ने भी एक बयान जारी कर मॉरीशस से माफ़ी मांगी है। कंपनी का दावा है कि अब ही तक सिर्फ 1000 टन तेल का ही रिसाव हुआ है। कंपनी ने कहा कि जो भी हो रहा है हम उसके लिए माफ़ी मांगते हैं और हमसे जो भी हो सकता है वो करने के लिए हम पूरी तरह तैयार हैं।

ईंधन रिसाव

मॉरीशस के लोगों ने इस संकट की घड़ी में आगे आकर बतौर वॉलंटियर समुद्र तटों की सफाई का काम शुरू कर दिया है। रविवार को हजारों की संख्या में आम लोगों ने प्रिंसटन बीच और आस-पास के इलाकों के समुद्र तट पर सफाई में राहतकर्मियों का साथ दिया। उधर जापान ने कहा है कि वे लगातार टैंकर से हो रहे रिसाव को रोकने की दिशा में काम कर रहे हैं।

Mauritius

हालांकि अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक अब टैंकर को डूबने से बचा पाना लगभग नामुमकिन है और स्थिति के ख़राब होने की आशंकाएं ज्यादा हैं। पीएम जगन्नाथ ने कहा कि अगर टैंकर पूरी तरह डूब जाता है तो स्थिति और बिगड़ जाएगी और समुद्र तटों पर तेल और ज्यादा इकट्ठा होने लगेगा।