आम आदमी पार्टी ने किया सीएम सिटी में जोरदार विरोध प्रदर्शन

करनाल/ आशुतोष गौतम। आम आदमी पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं ने किसान विरोधी काले कानूनों के विरोध में सीएम सिटी में जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। राज्य सभा सांसद एवं आप हरियाणा के सहप्रभारी डा. सुशील गुप्ता के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने हल्ला बोला। उनके साथ उत्तरी हरियाणा जोन के अध्यक्ष प्रो. बालकृष्ण कौशिक व संगठन मंत्री सुखबीर चहल विशेष रूप से मौजूद रहे। रेलवे रोड स्थित निरंकारी ावन के नजदीक इक्टठा होने के बाद कार्यकर्ता प्रदर्शन करते हुए सीएम के प्रेम नगर स्थित आवास की ओर कूच कर गए। जमकर नारेबाजी की गई। सीएम आवास से कुछ दूरी पर पुलिस ने कार्यकर्ताओं को बेरीकेट लगाकर रोक लिया। कार्यकर्ताओं ने बेरीकेट लांघ कर आगे जाने का कई बार प्रयास किया। पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच धक्का मुक्की भी हुई। काफी देर बाद सांसद सुशील गुप्ता ने नीलोखेड़ी के तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए  राज्य सभा सांसद एवं आम आदमी पार्टी हरियाणा के सहप्रभारी डॉ सुशील गुप्ता ने कहा कि मोदी सरकार ने जो काला कानून किसानो के लिए बनाया है, हम उसका पूरे विरोध में है। यह काला कानून किसानों आढ़तियों तथा मजदूरों के लिए सीधे सीधे मौत का फरमान है। इसके सबंधित तीनों काले कानूनों को वापिस लेने और विरोध करने पर सरकार पीपली में किसानों पर लाठी चार्ज, सिरसा में आंसू गैस के गोले दागती है। यहीं नहीं खटृर सरकार विरोध प्रदर्शन करने वाले किसानों पर मुकदमे दायर करती है, उनको जेलों में बंद कर मारती पीटती है, इसके बावजूद किसान उनके विरोध में सड़क में उतर रहा है।  प्रो. बालकृष्ण कौशिक व सुखबीर चहल ने कहा कि कई ह तों से हरियाणा की मंडियों में किसान धान बाजरा  तथा दूसरी फसलें लेकर पहुँच रहे हैं लेकिन खरीद नहीं हो रही है। फसल की आवक के मुकाबले खरीद न के बराबर हो रही है। पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने और गेट पास के नाम पर किसानों को परेशान किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मण्डी व्यवस्था को खत्म करके तथा खेती में ठेका प्रणाली लागू करके किसानों को पूंजीपतियों का गुलाम बनाना चाहती है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के न्यूनतम समर्थन मूल्य के जारी रहने के ब्यान को झूठा व गुमराह करने वाला बताया। इस अवसर पर संजीव मेहता, दीपक मित्तल, गजेंद्र सिंह, आरएस राठी, अश्वनी देशवाल, लक्ष्य गर्ग, प्रिया शर्मा, सुखबीर मलिक, $कृष्ण अग्रवाल, जसविंद्र राणा, संजय बाला, जितेंद्र, राजकुमार पहल, मंजु गुप्ता, राज सुखन, सीमा चौहान, संध्या व रोजी सहित हजारों कार्यकर्ता मौजूद रहे।
पंजाब सरकार भी भाजपा से मिली हुई है
राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने कहा जहां तक हरियाणा एवं पंजाब की सरकारों की बात है तो यह दोनों ही एक दूसरे से मिली हुई है। यह दोनों ही कृषि प्रधान प्रदेश बाले जाते है जहां 65 से 70 प्रतिशत से अधिक लोग परोक्ष तथा अपरोक्ष रूप से खेती से जुड़े हैं। लेकिन दोनों ही राज्यों ने किसान विरोधी काले कानून को लागू करने के बात करती है। पंजाब सरकार काले कानूने के विरोध में सड़क पर प्रदर्शन करती है, मगर इससे विराधे में विधानसभा का सत्र नहीं बुलाती। यह दोनों का गठबंधन दिखता है। उन्होंने कहा  कि पूरी दुनिया में किसानों की फसल के पूरे मूल्य की सुरक्षा सरकारें देतीं हैं जबकि निजी क पनियां केवल अपने मुनाफे के लिए काम करती हैं। ठेका खेती में किसानों की जमीन को शामिल करने से निजी क पनियां नए कानून के अन्तर्गत किसानों को और महंगे दामों पर खाद बीज खरीदने पर मजबूर करेंगी। सरकार आत्मनिर्भर बनाने का नारा देकर किसानों के हितों को बडी क पनियों के हवाले कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि खेती में ठेका प्रणाली लागू होने के बाद किसी भी विवाद में किसान कोर्ट में नहीं जा सकता है।किसान की फसल को आवश्यक वस्तु अधिनियम से बाहर होने पर कालाबाजारी बढेगी।
भाजपा व जजपा का गठबंधन
-राज्य सभा सांसद डॉ सुशील गुप्ता ने प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि हरियाणा में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है पूरी तरह जंगल राज फैला हुआ है जिसका ताजा ताजा प्रमाण राई सोनीपत में कारोबारी की दिन दहाड़े तावड़तोड़ गोलियां बरसा कर हत्या होती है। जिसकी जितनी भी निंदा की जाए उतनी ही कम है। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में प्रतिदिन 4 बलात्कार और 3 हत्याओं के मामले सामने आ रहे हैं। बलात्कारों के मामलों में हरयाणा देश के सातवें स्थान पर है। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019  में हरियाणा में कुल 1 लाख 66 हजार 336  अपराध दर्ज हुए जिनमें से 1 लाख 11 हजार 323  मामले (इंडियन पीनल कोड आईपीसी के थे। राज्य में युवा पीढ़ी के विभिन्न प्रकार के नशों की गिर त में आने के कारण राज्य में अपराध बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लोगों की जान व माल लूटा को जा रहा है और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। प्रदेश में कानून व्यवस्था ठप्प है अफसरसाही हावी है। पूरे प्रदेश में चोरी डकैती हत्या बलात्कार जैसे आपराधिक मामले चरम पर पहुँच चुके हैं।
युवाओं को नौकरी नहीं:
उन्होंने कहा है कि हरियाणा का हर व्यक्ति एवं सभी विभागों के कर्मचारी हताश और परेशान है। सरकारी नौकरियां छीनी जा रही हैं। प्रदेश में व्यापार पूरी तरह ठप्प हो चूका है। प्रदेश सरकार की नीतियों की वजह से आमजन रोजी रोटी के लिए मोहताज है। हरियाणा का मतदाता भाजपा की सरकार बना कर अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह फेल हो चुकी है। इसलिए इसे अब एक मिनट भी सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं रह गया है। इसलिए मु यमंत्री मनोहर लाल खट्टर तुरंत ही त्याग पत्र दे देना चाहिए।