जौनपुर में गांव की एक बेटी ने देश में लहराया परचम

जौनपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश में जौनपुर के ग्रामीण इलाके की एक बेटी ने यह साबित कर दिया कि प्रतिभावान छात्र जिन्दगी में आने वाली सभी रूकावटों को दूर करके अपना मुकाम हासिल कर सकता है। इस बिटिया ने परिवार की गरीबी समेत सभी बाधाओं को दूर करते हुए वह मुकाम हासिल किया है जो देश के नामी गिरामी कांवेन्ट स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं की पहली प्राथमिकता होती है। जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मीरगंज थाना क्षेत्र के दारापुर गांव के निवासी विनय प्रकाश शुक्ला एक प्राईवेट कम्पनी में कार्य करते हैं। उनकी पत्नी अंशु शुक्ला गृहणी है। उन्हे दो पुत्री और एक पुत्र है। विनय के दूसरी नम्बर के बेटी का नाम साक्षी है। 

शुक्ला किसी तरह से बाल बच्चो की परवरिश करते है। पैसे की कमी के चलते उनके तीनों बच्चों ने सरकारी स्कूलों में शिक्षा ग्रहण की । साक्षी शुक्ला गांव के सर्वोदय इण्टर कालेज से प्राथमिक शिक्षा से लेकर इण्टर तक की पढ़ाई करने के बाद अपनी प्रतिभा के बदौलत इलाहाबाद विश्वविद्यालय में बीएससी और एमएससी में अव्वल स्थान प्राप्त करने के बाद अब देश के सर्वोत्तम शैक्षणिक संस्थान अखिल भारतीय प्राद्योगिकी संस्थान रूड़की में शोध के लिए भौतिक विषय पर न्यूक्लियर फिजिक्स विषय के लिये चयनित हुई है। यह सीट पूरे देश स्तर पर दहाई में होती है।

साक्षी की इस सफलता से जहां उसके माता पिता व जिले के लोग खुशी से झूम उठे है वही उनके करीबी रिश्तेदार जिले के बरिष्ठ पत्रकार डॉ0 मधुकर तिवारी, अनुराग तिवारी साक्षी को इस सफलता पर बधाईयां देते हुए भविष्य में आसमान ऊंचाई छूने का आर्शीवाद दिया है।