शिमला में 76.29 फीसदी कोरोना मरीज स्वस्थ, सक्रिय मरीज मात्र 322 रहे

शिमला (पी.सी.लोहमी): जिला शिमला में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अब तक कुल 1637 संक्रमित मरीज पाए गए हैं। इसमें अच्छी बात यह है कि 1249 मरीज संक्रमण मुक्त हुए हैं। जिले का रिकवरी रेट 76.29 फीसदी है। यह हालांकि हिमाचल प्रदेश की रिकवरी रेट से 7 फीसदी कम है। हिमाचल का रिकवरी रेट 83.65 फीसदी है। रिकवरी के मामले में सिरमौर जिला राज्य में सबसे अव्वल है। सिरमौर में 92.28 फीसदी मरीजों ने कोरोना से जंग जीती है और इस जिले की रिकवरी रेट हिमाचल व देश की रिकवरी रेट से भी अधिक है।

शिमला में गत एक माह से कोरोना का संक्रमण बढ़ा है। जिले के सभी इलाकों से संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना का अधिक प्रभाव शिमला शहर में देखा जा रहा है। शहर के विभिन्न हिस्सों में रोजाना संक्रमण के अनेक मामलों की पुष्टि हो रही है। आम लोगों से लेकर अधिकारी व जनप्रतिनिधि कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। हाल ही में कैबिनट मंत्री सुरेश भारद्वाज अपनी पत्नी संग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। शिमला जिले के लिए चिंताजनक यह है कि कोरोना से मरने वालों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। अब तक 53 लोग कोरोना से दम तोड़ चुके हैं। कांगड़ा के बाद शिमला दूसरा ऐसा जिला है, जहां कोरोना से सर्वाधिक मौतें हुई हैं। कांगड़ा में कोरोना से 54 मरीजों की जान गई है।
स्वास्थ्य विभाग के रविवार दोपहर तक के आंकड़ों के मुताबिक जिले में कोरोना के 322 सक्रिय मरीज शेष हैं। जिनमें अधिकतर होम आइसोलेशन में हैं। बीते 24 घण्टों के दौरान शिमला में 45 नए मामले उजागर हुई, वहीं 86 मरीजों ने कोरोना को मात दी है। 

उल्लेखनीय है कि हिमाचल प्रदेश में कोरोना के 17261 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इनमें 14440 मरीज स्वस्थ हुए हैं जबकि 243 लोगों की मौत हुई है। राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर 2553 रह गई है। रोजाना प्रदेश भर में 3 हज़ार करीब कोरोना टेस्ट किये जा रहे हिंम अब तक कोरोना के 3,22427 नमूनों की जांच की जा चुकी है।