साल 2021 तक 50 प्रतिशत स्मार्टफोन में होंगे तीन या अधिक कैमरे

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): इस 'मेगापिक्सेल युद्ध' में जहां स्मार्टफोन कंपनियों के बीच एक-दूसरे से आगे बढ़ने की होड़ लगी हुई है, इस बीच काउंटरपॉइंट रिसर्च की एक नई रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि साल 2021 के अंत तक दुनियाभर में बिकने वाले करीब 50 प्रतिशत स्मार्टफोन में तीन या उससे अधिक कैमरे होंगे।

साल 2019 में ही एक मूल उपकरण निर्माता कंपनी, ऑरिजिनल इक्विपमेंट मैनुफैक्चर्स (ओईएम) ने इससे एक कदम आगे बढ़कर ट्रीपल कैमरा सेटअप के साथ नजर आई है जो यूजर्स के बीच खासा लोकप्रिय होते दिख रही है। मार्च 2018 में विश्व स्तर पर बिकने वाले लगभग छह फीसदी स्मार्टफोन में तीन या उससे अधिक रियर कैमरा सेंसर थे। 

साल 2019 के अंत तक इस आंकड़े में 15 प्रतिशत और साल 2020 के अंत तक 35 प्रतिशत का इजाफा होने की संभावना है। डिवाइसेस एंड इकोसिस्टम, काउंटर रिसर्च के वरिष्ठ विश्लेषक हनीश भाटिया ने कहा, "ड्यूल कैमरा की तरह ही ट्रिपल कैमरे का फीचर पहले पहले अधिक कीमत वाले स्मार्टफोन में ही देखा गया। हालांकि, 2018 के अंत तक या 2019 की शुरुआत में कम मूल्य वाले किफायती स्मार्टफोन में भी तीन या अधिक कैमरे के फीचर्स देखे गए।"

इस साल अप्रैल में 40 या उससे ज्यादा स्मार्टफोन लॉन्च किए गए जिनमें तीन या उससे अधिक कैमरे थे। इनमें से 30 साल की तिमाही में ही लॉन्च हुए जिनमें हुआवेई और सैमसंग के स्माटफोन शामिल थे। इनमें हुआवेई मेट और पी सीरीज, सैमसंग गैलेक्सी ए सीरीज, द निऊ गैलेक्सी फ्लैगशिप और द वीवो वी15/प्रो जैसे मॉडल में ट्रिपल कैमरा सेंसर था। रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद इसी साल में अन्य ऑरिजिनल इक्विपमेंट मैनुफैक्चर्स (ओईएम) में, एप्पल, वनप्लस जैसे स्मार्टफोन में भी इस तरह के फीचर्स देखने को मिले।

हनीश ने यह भी कहा, साल 2020 में हम ऐसे स्मार्टफोन को लॉन्स करने के बारे में सोच रहे हैं जिनमें कैमरा रेजोल्यूशन 100 मेगापिक्सेल या उससे भी अधिक हो। गूगल के अपने फ्लैगशिप पिक्सेल फोन में ड्यूल कैमरा तक नहीं है और सॉफ्टवेयर के माध्यम से गूगल अपनी मशहूर छवि पर ज्यादा निर्भर रहा। उन्होंने आगे यह भी कहा, हालांकि जिस तरह से ड्यूल कैमरा सेंसर को अपनाने में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है, ऐसे में अपने आने वाले फ्लैगशिप में इसे शामिल करने का दबाव गूगल पर रहेगा।