अमेरिकी सरकार से 3.80 करोड़ की स्कॉलरशिप, अब बुलंदशहर में छेड़छाड़ के कारण हुए सड़क हादसे में सुदीक्षा की दर्दनाक मौत

लखनऊ (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश में मनचलों के हौसले इस कदर बुलंद हैं, इसकी एक ताजा उदाहरण बुलंदशहर में देखने को मिली है। बुलंदशहर में अमेरिका से स्वदेश लौटी होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी (19) की मनचलों की छेड़खानी से बचने के दौरान सड़क हादसे में मौत हो गई। गाजियाबाद में भांजी को छेड़खानी से बचाने के दौरान पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या को लोग भूल भी नहीं पाए थे कि बुलंदशहर की घटना से एक बार फिर प्रदेश के अभिभावकों का कलेजा कांप गया है। 

सुदीक्षा भाटी

बेटी की मौत के बाद परिवार पूरी तरह से टूट गया है। छात्रा अमेरिका में बीबीए की पढ़ाई कर रही थी। वहां की सरकार ने छात्रा को 3.80 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी थी। सुदीक्षा सोमवार को चाचा सतेंद्र भाटी के साथ बाइक से औरंगाबाद स्थित माधवगढ़ गांव में रिश्तेदारी में गई थी। सुदीक्षा ने बुलंदशहर के विद्या ज्ञान स्कूल से इंटरमीडिएट की पढ़ाई की थी। इंटर में 98 फीसदी अंक हासिल किए थे। छात्रा का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

ऐसे हुआ हादसा
सुदीक्षा भाटी के परिजन का आरोप है कि जब बाइक से वह औरांगबाद जा रहे थे, तब उनकी बाइक का बुलेट सवार दो युवको ने पीछा किया। कभी युवक अपनी बुलेट को आगे निकलते तो कभी पीछे स्टंट करने लगते थे। अचानक बुलेट सवार युवकों ने ब्रेक लगा दिया। इससे उनकी बाइक अनियंत्रित होकर सड़क पर जा गिरी। इस हादसे में होनहार छात्रा की मौत हो गई।

सुदीक्षा एक साधारण परिवार से निकलकर शिक्षा के दम पर अमेरिका तक पहुंच गई थीं। वह गांव और देश की अन्य लड़कियों को भी शिक्षित करना चाहती थीं। यही कारण था कि अमेरिका से आने पर वह गांव की लड़कियों को पढ़ाती थीं। परिजनों से कहती थी कि 20 साल की एक योजना बनाई है। एनजीओ बनाकर गांव और देश की लड़कियों को शिक्षित करने का काम करेंगी। सुुदीक्षा का कहना था कि अगर लड़कियां शिक्षित हो जाएंगी तो देश की कई समस्याओं का समाधान हो जाएगा।