27 साल का इंतजार खत्म, श्री राम लला को तंबू से बाहर विराजे जाने की तारीख का ऐलान

अयोध्या (उत्तम हिन्दू न्यूज): अयोध्या में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पहुंच चुके हैं। उन्होंने यहां राम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़ रुपये की धनराशि देने का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री के रूप में 100 दिन पूरे होने पर उद्धव ठाकरे अयोध्या में दर्शन करने पहुंचे हैं। साथ में उनके बेटे और मंत्री आदित्य ठाकरे भी हैं।

6 दिसंबर 1992 से टाट के नीचे हैं रामलला

उधर, श्री रामभक्तों के लिए खुशखबरी है। 27 साल बाद राम लाल तंबू से बाहर विराजे जाएंगे। आज श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव और वीएचपी नेता चंपत राय ने कहा कि राम लाल को फाइबर के मंदिर में 24 मार्च को स्थापित कर दिया जाएगा। अगले ही दिन यानी 25 मार्च से चैत्र रामनवमी के पहले दिन भक्त रामलला के नए मंदिर में दर्शन करेंगे। इस दिशा में काफी जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं। 6 दिसंबर 1992 के बाद से रामलला एक तंबू के नीचे विराजमान हैं। 

Image result for ram mandir ayodhya

आज ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सदस्यों के साथ परिसर का पूरी तरह से निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी अनुज कुमार झा और कमिश्नर गुप्ता भी 1 घंटे तक परिसर में मौजूद रहे। चंपत राय ने बताया, यहां की व्यवस्था को बड़ी बारीकी से देखकर यह निर्णय लिया गया है रामलला को नवरात्र के पहले दिन से पहले टाट के मंदिर से मुक्त कर दिया जाए। इसके साथ ही ट्स्र्ट की बैठक की तारीख भी तय हो गई है। तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अगली बैठक 4 अप्रैल को अयोध्या में होगी।