Sunday, November 18, 2018 09:11 AM

एक शव पर 2 परिवारों का दावा, हुआ है खतना और हाथ पर श्री राम का टैटू

धनबाद (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कई बार कुछ ऐसे मामले सामने आते हैं, जिनका हल निकालने में पुलिस का भी सिर चकरा जाता है। यूपी के धनबाद में भी ठीक इसी प्रकार का एक मामला प्रकाश में आया है। यहां एक शव को लेकर जमकर बवाल मचा हुआ है। मामला कितना पेचीदा है, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि पुलिस भी चक्कर में फंसी हुई नजर आती है। दरअसल यहां एक शव पर दो परिवारों ने अपना हक जताया है और इसके लिए दोनों परिवार आपस में भिड़ने तक को तैयार हैँ। रोचक बात ये है कि इन परिवारों में एक हिन्दू है और दूसरा मुस्लिम। 

एक शव पर 2 पर‍िवार का दावा, हुआ है खतना-हाथ पर श्री राम का टैटू
मिली जानकारी के मुताबिक, बीती 1 सितंबर को सड़क दुर्घटना में एक युवक की मौत हुई थी। इसके बाद पुलिस थाने से उत्तर प्रदेश के गोंडा के जबवर अली (जब्बार अली) को फोन गया कि उसके बेटे का शव आया है। वह अपने साथ ले जाएं। ठीक उसी समय गिरिडीह जिले के गांवा के रहने वाले वृद्ध बाल किशन शर्मा ने अपने बेटे का शव बताकर दावा ठोक दिया। बताया जा रहा है कि चार दिन पहले सड़क दुर्घटना के दौरान युवक घायल हुआ था और पुलिस ने इलाज के लिए पीएमसीएच में भर्ती कराया था, लेकिन इलाज के दौरान युवक की मृत्यु हो गई और उसके बाद से शव को लेकर दो परिवार आमने सामने है।

एक शव पर 2 पर‍िवार का दावा, हुआ है खतना-हाथ पर श्री राम का टैटू
एक ओर जहां जबवर अली (जब्बार अली) ने दावा किया कि शव उसके बेटे जुमारती का है। खास बात ये है कि पहले पुलिस शव को जब्बार को सौंप भी चुकी थी और वह लेकर निकल भी चुका था, लेकिन बाल किशन शर्मा के दावे के बाद विवाद खड़ा हो गया और दोबारा शव को ले जा रहे एंबुलेंस को हजारीबाग के गोरहर से वापस धनबाद बुलाया गया। पुलिस को यह बात पता करने में काफी माथापच्‍ची करनी पड़ी कि शव शर्मा के बेटे संतोष का या जब्बार के बेटे जुमारती का। यह मामला इसलिए अजीबोगरीब था क्‍योंकि मृतक के हाथ में श्री राम का टैटू है तो खतना भी हुआ था। उसका चेहरा हादसे में बुरी तरह खराब हो गया था।
एक शव पर 2 पर‍िवार का दावा, हुआ है खतना-हाथ पर श्री राम का टैटू

जब्बार ने अपने बयान में कहा है कि उसके बेटे जुमराती के पैर में कैंसर हो गया था। पोस्‍टमार्टम मे में ये बात सही पायी गयी थी। किशन के अनुसार उनके बेटे संतोष का एक पैर बीमारी के कारण काटना पड़ा था। इसके बाद दोनों परिवार अपनी अपनी तरफ से कागजात और कई दूसरे प्रमाण पत्र दिखाकर शव को अपना बता रहे हैं। जहां हिंदू परिवार जहां वोटर आइडी दिखा रहा है, तो वहीं मुस्‍लिम पर‍िवार जुमराती और उसकी बीवी का आधार कार्ड, राशन कार्ड, बैंक पासबुक आदि पेश कर रहा है। इस बीच पुलिस के लिए ये मामला अभी भी गुत्थी बना हुआ है। बहरहाल अब पुलिस ने शव का डीएनए टेस्ट करवाने का फैसला किया है। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।