पिछले पंद्रह सालों में 14,667 किसानों ने की अात्महत्या

मोगा (उत्तम हिन्दू न्यूज): पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के सर्वे के मुताबिक पिछले पंद्रह सालों में करीब 14,667 किसानों तथा खेत मजदूरों ने आत्महत्या की। यह जानकारी पीएयू के कृषि पत्रकारिता विभाग के प्रो0 सरबजीत सिंह ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि यह सर्वे 2000 -2015 के दौरान घर -घर जाकर कराया गया था। उन्होंने कहा कि कृषि विश्विद्यालय ने गैर सरकारी संगठनों तथा अन्य सामाजिक क्षेत्र से जुड़े नेताओं के सहयोग से अाज वर्ल्ड सुसाइड प्रीवेंशन डे मनाया।

प्रो0 सिंह ने बताया कि मालवा क्षेत्र के छह जिले लुधियाना ,संगरूर , मानसा , बठिंडा , बरनाला ,मोगा, लुधियाना में किये गये सर्वे से पता चला है कि कम से कम तीन किसान रोजाना आत्महत्या करते हैं तथा करीब 83फीसदी आत्महत्यायें कर्ज के कारण होती हैं । इसके अलावा 75 फीसदी आत्महत्या करने वालों में सीमांत ,छोटे तथा मंझोले किसान हैं। 

उन्होंने कहा कि किसान आत्महत्यायें रोकने के लिये उठाये गये कदमों के तहत नेशनल एग्रीकल्चरल साइंस की आेर से पीयू, तेलंगाना, मराठवाडा कृषि विश्वविद्यालय को लीड सेंटर चुना गया है। 

Related Stories: