America से 13 हजार किमी. का सफर कर Australia पहुंचे कबूतर ने खड़ा किया विवाद, Social Media पर बना चर्चा का विषय

मंलबर्न (उत्तम हिन्दू न्यूज): अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के नाम पर ‘जो’ नामक कबूतर ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के बीच तनातनी का कारण बन गया। कबूतर अमेरिका के ऑरेगन से 13 हजार किमी की उड़ान भरकर 26 दिसंबर को मेलबर्न पहुंचा तो उसके पैर में ‘जो’ नाम का बैंड बंधा देख अधिकारियों ने बायोसिक्योरिटी को खतरा बता मारने का फैसला कर लिया।

ऑस्ट्रेलिया ने इस कबूतर को इस आधार पर मारने का फैसला किया क्योंकि इससे उसके यहां बीमारी फैल सकती है। ये कबूतर खाद्य सुरक्षा और पोल्ट्री फॉर्मों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है।

items.[0].image.alt

इसके बाद अमेरिका के ओकालहोमा के रेसिंग पिजन यूनियन के मैनेजर डीयोन रॉबर्ट्स ने कहा कि कबूतर के पैर में बंधा बैंड फर्जी है। अमेरिका के जिस ब्लू बार पिजन को ये बैंड बांधा जाता है वो ऑस्ट्रेलिया द्वारा पकड़ा गया कबूतर नहीं है। ऐसी स्थिति में उसे मारा नहीं जा सकता है। ये उसके जीवन जीने की स्वतंत्रता के खिलाफ है।

ऑस्ट्रेलिया के कृषि विभाग ने जांच पड़ताल में पाया कि जो नाम के इस कबूतर के पैर में फर्जी बैंड बांधा गया था। जांच में ये भी पता चला है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत की खुशी में किसी ने ये बैंड कबूतर के पैर में बांधकर उड़ा दिया जिससे असमंजस की स्थिति पैदा हो गई। संभव है कि कबूतर ऑस्ट्रेलिया का ही हो और उससे कोई खतरा नहीं है। अब कबूतर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी।

ऑस्ट्रेलिया में मिला ये कबूतर सोशल मीडिया पर चर्चा बन गया है। अमेरिका के विक्टोरिया के पशु न्याय पार्टी के कानूनविद एंडी मेडिक ने कहा ‘जो’ नाम के कबूतर को स्वतंत्र रूप से जीने का अधिकार मिलना चाहिए। उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जो के पैर में जो बैंड है उससे साबित होता है कि वो अमेरिकी नहीं है और किसी भी हाल में उसे मारने की जरूरत नहीं है।