डाकघर में खुलेंगे रोजगार पंजीयन केंद्र 

जयपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : देश में बेरोजगार युवाओं के पंजीकरण के लिए अब डाकघरों में रोजगार पंजीकरण केंद्र खोले जाएंगे। राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाए कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इसके लिए भारतीय डाक विभाग एवं श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसके तहत डाकघर आने वाले दिनों में रोजगार पंजीकरण केंद्र के रूप में भी कार्य करेंगे। उन्होंने बताया कि योजना के तहत पहले चरण में राजस्थान के साथ ही उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, तमिलनाडु, जम्मू कश्मीर तथा उत्तर पूर्वी राज्य के प्रधान डाकघरों में रोजगार पंजीयन केंद्र खोले जाएंगे। शेष राज्यों में दूसरे चरण में यह केंद्र खोले जाएंगे। उन्होंने बताया कि इसके लिए स्टाफ को ट्रेनिंग दी जा चुकी है और इसके शुभारंभ की औपचारिक तिथि आते ही सभी प्रधान डाकघरों में पंजीकरण का कार्य आरंभ कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के निर्देश पर गवर्नेंस में नवाचार आइडिया के तहत विभिन्न विभागों के सचिवों की कमेटी के सुझाव के आधार पर इस योजना को लागू किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत बेरोजगार युवक डाकघर में जाकर नेशनल करियर सर्विस ऑनलाइन पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवा सकेंगे। यादव ने बताया कि डाकघरों में नए बेरोजगार पंजीकरण हेतु 15 रुपए, पंजीकृत प्रोफाइल को अपडेट करवाने हेतु पांच रुपए और आवेदन-पत्र के प्रिंटआउट के लिए 10 रुपए लगेंगे। उन्होंने बताया कि पंजीकरण होने के पश्चात डाकघर द्वारा एक प्रिन्टआउट दिया जाएगा जिसमें रजिस्ट्रेशन नंबर और अन्य जानकारी दर्ज होगी। पंजीकरण हेतु किसी भी प्रकार के दस्तावेज बेरोजगार युवक-युवतियों को नहीं देने होंगे। यादव ने कहा कि यह पोर्टल नेट कनेक्टेड शहरी क्षेत्र तथा नॉन कनेक्टेड ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारों के बीच सेतु का कार्य करेगी। इस सुविधा से जहाँ बेरोजगार युवकों को घर के पास ही पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध होगी, वहीं डाक विभाग को भी आमदनी होगी। गौर हो कि केंद्र सरकार द्वारा आंध्रप्रदेश तथा तेलंगाना में 12 फरवरी, 2017 को रोजगार पंजीयन केंद्र खोलने का पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया था।